गुरुवार, 28 अप्रैल 2016

वर्ण-पिरामिड (शीर्षक = काँटे / शूल)

वर्ण-पिरामिड
शीर्षक = काँटे / शूल
ये
शूल
बबूल
दंभ मूल
विषाक्त चूल
निकृष्ट उसूल
चीर-चीर दुकूल (१)
ये
काँटे
निर्भाव
चलें दाव
घायल पाँव
तडफते घाव
छिन्न-भिन्न संभाव (२)
*******सुरेशपाल वर्मा जसाला

1 टिप्पणी:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 24 मई 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं